Sri Hanumanth Jayanti, Jai Bajrang Bali

Today is Hanumanth Jayanti, my mother’s ishta devta (most beloved God) Hanuman’s birthday. I love the Hanuman Chalisa and its played everyday at home since 2009 :). Amma figured out how to record her favourite shlokas and spiritual programs on Tata Sky. The Hanuman Chalisa that she has recorded is sung by a young girl and its a beautiful rendition.

श्री हनुमान चालीसा

दोहा :
श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।
बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।। 
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।। 
 
चौपाई :
 
जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।
जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।
रामदूत अतुलित बल धामा।
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।
महाबीर बिक्रम बजरंगी।
कुमति निवार सुमति के संगी।।
कंचन बरन बिराज सुबेसा।
कानन कुंडल कुंचित केसा।।
हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।
कांधे मूंज जनेऊ साजै।
संकर सुवन केसरीनंदन।
तेज प्रताप महा जग बन्दन।।
विद्यावान गुनी अति चातुर।
राम काज करिबे को आतुर।।
प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।
राम लखन सीता मन बसिया।।
सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।
बिकट रूप धरि लंक जरावा।।
भीम रूप धरि असुर संहारे।
रामचंद्र के काज संवारे।।
लाय सजीवन लखन जियाये।
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।।
रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।
सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।
अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।
सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।
नारद सारद सहित अहीसा।।
जम कुबेर दिगपाल जहां ते।
कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।
तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।
राम मिलाय राज पद दीन्हा।।
तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।
लंकेस्वर भए सब जग जाना।।
जुग सहस्र जोजन पर भानू।
लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।
प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।
जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।
दुर्गम काज जगत के जेते।
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।
राम दुआरे तुम रखवारे।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।
सब सुख लहै तुम्हारी सरना।
तुम रक्षक काहू को डर ना।।
आपन तेज सम्हारो आपै।
तीनों लोक हांक तें कांपै।।
भूत पिसाच निकट नहिं आवै।
महाबीर जब नाम सुनावै।।
नासै रोग हरै सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बीरा।।
संकट तें हनुमान छुड़ावै।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।
सब पर राम तपस्वी राजा।
तिन के काज सकल तुम साजा।
और मनोरथ जो कोई लावै।
सोइ अमित जीवन फल पावै।।
चारों जुग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा।।
साधु-संत के तुम रखवारे।
असुर निकंदन राम दुलारे।।
अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।
अस बर दीन जानकी माता।।
राम रसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा।।
तुम्हरे भजन राम को पावै।
जनम-जनम के दुख बिसरावै।।
अन्तकाल रघुबर पुर जाई।
जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।।
और देवता चित्त न धरई।
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।
संकट कटै मिटै सब पीरा।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।
जै जै जै हनुमान गोसाईं।
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।
जो सत बार पाठ कर कोई।
छूटहि बंदि महा सुख होई।।
जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।
होय सिद्धि साखी गौरीसा।।
तुलसीदास सदा हरि चेरा।
कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।। 
 
दोहा :
पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।
 
 

My favourite verses are the following –

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।
बिकट रूप धरि लंक जरावा।।
भीम रूप धरि असुर संहारे।
रामचंद्र के काज संवारे।।

A literal translation is “Hanuman reduces his size so that Ma Sita is not scared, he takes on a Vikat (dangerous looking) shape to burn Lanka. As Bheem he kills the demons and he always completes Sri Rama’s work”. What an amazing set of verses ! You need to behave according to the context and the situation you find yourself in. No wonder, we pray to Hanuman for intelligence and courage.

Below are a set of photographs from different Hanuman temples across Tamil Nadu. Amma’s school friend’s husband, Rajamani Mama is an expert in doing the “alankaram” at the temples. His sons are taking care of different Hanuman temples as “archakas” or “bhattars”. The word priest somehow doesn’t suit them, closest is probably “pandit”. Alankaram loosely translated is decoration.

  • Hanumanth
  • Hanumanth

The “Alankaram” that is done for the Gods is truly an art form. I don’t see much of it in the North Indian temples, but I have visited very few temples in the North to comment !!

Happy Hanumanth Jayanti. Jai Bajrang Bali.

Do read an earlier post of mine Varadaraja Perumal Temple and Getwell Anjaneyar

3 thoughts on “Sri Hanumanth Jayanti, Jai Bajrang Bali”

  1. Hi Bindu

    You write well and on interesting topics.

    Just for your iinfo, Hanuman Jayanti is the full moon day of hindu month Chaitra

    This year, it is on April 27th

    After Ramnavmi, it’s 6th day

    Reply
    • Thanks Manoj Ji – South Indians believe that Hanuman Ji was born in the Marghazi (Margasirsa) month under the Moolam (Moola) nakshatra. That’s why it’s celebrated as Hanuman Jayanti. Jan 12th was Moolam, in Margazhi month. Slight differences in his date of birth 😊.

      Reply

Leave a Reply

%d bloggers like this: